Monday, 24 February 2014

Friday, 21 February 2014

सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए शादी से पहले सेक्स का ज्ञान ज़रूरी
----- स्त्री और पुरुष जब आपस में विवाह करते हैं तो उनके लिए सबसे पहली बात है शारीरिक संबंधों के बारे में पूरी तरह से जानकारी होना. इसको इस तरह से भी कहा जा सकता है कि भूख का लगना एक स्वाभाविक और प्राकृतिक प्रक्रिया है. भूख दो प्रकार की होती है- पहली पेट की भूख और दूसरी शरीर की भूख. पेट की भूख तो बच्चे को जन्म लेते ही लगने लगती है लेकिन शरीर की भूख युवावस्था के बाद लगती है. पेट की भूख को शांत करने के लिए तो प्रकृति ने भोजन की व्यवस्था की है लेकिन शरीर की भूख को शांत करने के लिए समाज द्वारा विवाह की स्थापना की है. विवाह के बाद शरीर की भूख को शांत करने के लिए पत्नी मौजूद रहती है जिसे हर तरह की मान्यता प्राप्त होती है-

1. अपने दाम्पत्य जीवन को सुखी बनाने के लिए पति-पत्नी को सेक्स क्रिया का ज्ञान होना जरूरी है क्योंकि इसके ज्ञान के बिना दाम्पत्य जीवन का सुख अधूरा होता है.

2. सेक्स क्रिया करना दाम्पत्य जीवन में इसलिए जरूरी होता है क्योंकि इससे पति-पत्नी का आपसी संबंध गहरा होता है और वे एक-दूसरे को ठीक प्रकार से जान पाते हैं.

3. जब लड़की अपनी युवावस्था में पहुंचती है, तभी उसकी मां या सहेली, बड़ी बहन तथा कोई भी जानकार स्त्री को उसे सेक्स के बारे में शिक्षा देनी चाहिए ताकि वह शादी के बाद अपना जीवन सुखपूर्वक जी सके.

4. लड़की को शादी से पहले ही सेक्स का ज्ञान देना जरूरी इसलिए होता है क्योंकि हरेक पुरुष चाहता है कि उसकी पत्नी उसे सेक्स का सुख ठीक प्रकार से दे.

5. आजकल बहुत से स्त्री-पुरुष यह सोचते हैं कि सेक्स केवल शारीरिक जरूरत है जबकि ऐसा नहीं है क्योंकि सेक्स क्रिया के दौरान स्त्री-पुरुष खुलकर आपस में मिलते हैं तथा अपने अंदर के प्यार को एक-दूसरे पर लुटाने लगते हैं, इससे उनका प्यार गहरा हो जाता है. इसलिए कहा जा सकता है कि सेक्स के बिना दाम्पत्य जीवन अधूरा होता है.

6. कभी-कभी तो यह भी देखा गया है कि पति-पत्नी के दाम्पत्य जीवन के संबंध में पुराने-रीतिरिवाज के चक्कर से दरार पड़ने लगता है. अतः पति-पत्नी को कोई भी ऐसे रीतिरिवाज नहीं अपनाना चाहिए, जिससे आपसी संबंध में खटास उत्पन्न हो. उदाहारण के लिए बहुत से पति-पत्नी तो ऐसे होते हैं जो अपने परिवार वालों के कारण से कही बाहर एक-दूसरे के साथ नहीं जा पाते और इसके लिए पति-पत्नी का आपस में कलह होता रहता है.

7. पति-पत्नी को अपने डिप्रेशन तथा चिड़चिड़ेपन को दूर करके के लिए तथा अपने दाम्पत्य जीवन को अधिक गहरा बनाने के लिए एक-दूसरे पर भरोसा करना चाहिए.

Saturday, 1 February 2014


दिनभर लिपटकर आप बचा सकते हैं शादीशुदा जिंदगी
The secret to a long and happy marriage?


यूं तो लोग अपनी शादीशुदा जिंदगी को बचाने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं लेकिन अब शादीशुदा जिंदगी को खुशहाल बनाने का नया मंत्र मिल गया है।

डेली मेल पर प्रकाशित एक सर्वे के मुताबिक, बेशक आप शादी के बाद अपने पार्टनर को अपना दोस्त समझेंगे तो आपकी मैरिड लाइफ खुशहाल होगी लेकिन इसके अलावा एक रिसर्च में नया हार्मोन पाया गया है जिससे शादीशुदा जिंदगी को खुशहाल बनाया जा सकता है।

रिसर्च के मुताबिक, लंबे समय तक मैरिज लाइफ को खु्शहाल बनाने का हार्मोन का निर्माण ब्रेन में होता है।

रिसर्च में पाया गया कि ऑक्सीटोसिन एक दूसरे के लिए भावनाओं को मजबूत बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

प्रयोग के दौरान पाया गया कि जब पुरुष अपने प्रिय की फोटो देखते हैं तो जो भावुक हो जाते हैँ और उनके ब्रेन को फोटो देखने के दौरान स्कैन किया गया तो पाया गया कि पुरुषों की नाक में वो हार्मोन पहुंच जाता है जो उन्हें भावुक बनाता है।

वहीं ऑक्सीटोसिन नाम ये हार्मोन दुख के समय में कम हो जाता है और शादी के बाद बढ़ जाता है। रिसर्च में पाया गया कि ऑक्सीटोसिन दिमाग में उपजता है लेकिन इसके कई मायने होते हैं।

सेक्स के दौरान ये हार्मोन काफी मात्रा में प्रोड्यूस होता ही। आपको जानकर हैरानी होगी इसे कडल हार्मोन के नाम से भी जाना जाता है।

जब कोई प्यार में पड़ता है तब भी ये हार्मोन भारी मात्रा में प्रोड्यूस होता है। लेकिन जर्मनी की बोन यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर के मुताबिक, जब आप प्यार में होते हैं या लंबे समय कमिटेड होते हैं ये हार्मोन तब भी उतना ही महत्वपूर्ण होता है।

रिसर्च में ये भी पाया गया कि जब आप प्यार से पार्टनर से देर तक लिपटते हैं तो ये हार्मोन निकलता है जो कि आपको खुश रखता है।

अंत में इस पूरी रिसर्च में ये पाया गया कि एक स्थायी शादी या रिलेशन‌शिप के बाद ऑक्सीटोसिन का उत्पादन अतिरिक्त मात्रा में होता है जो कि रिश्तों को बेहतर बनाने में मदद करता है।

पुरुषों के लिए शादी का यह फायदा यकीनन चौंकाएगा आपको
married men have stronger bones
कहते हैं शादी वो लड्डू है जो खाए सो पछताए और जो न खाए वो भी पढ़ताए। ऐसे में पुरुषों के लिए शादी का ऐसा फायदा आपने नहीं सुना होगा।
हाल में हुए शोध की मानें तो 25 की उम्र में शादी करने वाले पुरुषों की हड्डियां अधिक मजबूत होती है।
ओस्टियोपोरोसिस इंटरनेशनल जर्नल में प्रकाशित शोध की मानें तो जो पुरुष लंबे समय तक किसी संबंध या शादी में होते हैं, उनकी हड्डियां तलाकशुदा या सिंगल पुरुषों के मुकाबले अधिक मजबूत होती हैं।

हालांकि शोधकर्ताओं ने लंबे समय से शादीशुदा महिलाओं के लिए यह बात नहीं मानी है।

शोधकर्ता डॉ. कैरोलिन क्रैंडल के अनुसार, ''सेहत न सिर्फ अच्छी जीवनशैली बल्कि आपके सामाजिक परिवेश से भी प्रभावित होती है। हमने अध्ययन में पाया कि शादीशुदा जिंदगी से मिलने वाली स्थिरता और खुशहाली का प्रभाव पुरुषों की हड्डियों पर बहुत सकारात्मक है।''

शोध के दौरान शोधकर्ताओं ने 1995 से लेकर 2005 तक के 25 से लेकर 75 वर्ष की आयु की सेहत का अच्छी तरह अध्ययन किया और इसी आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है।

हालांकि शोधकर्ताओं ने लंबे समय से शादीशुदा महिलाओं के लिए यह बात नहीं मानी है।
शोधकर्ता डॉ. कैरोलिन क्रैंडल के अनुसार, ''सेहत न सिर्फ अच्छी जीवनशैली बल्कि आपके सामाजिक परिवेश से भी प्रभावित होती है। हमने अध्ययन में पाया कि शादीशुदा जिंदगी से मिलने वाली स्थिरता और खुशहाली का प्रभाव पुरुषों की हड्डियों पर बहुत सकारात्मक है।''
शोध के दौरान शोधकर्ताओं ने 1995 से लेकर 2005 तक के 25 से लेकर 75 वर्ष की आयु की सेहत का अच्छी तरह अध्ययन किया और इसी आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है।

यीस्ट संक्रमण के कारण , लक्षण और उपचार

यीस्ट संक्रमण के कारण , लक्षण और उपचार  शरीर की प्रणाली असंतुलित होने पर यीस्‍ट की समस्‍या होती है। इसमें योनि में जलन, खुजली, गाढ़ा स...