Friday, 30 September 2016

खतरनाक सेक्स पोजीशन

खतरनाक सेक्स पोजीशन



सेक्स का आनंद लेने के लिए अलग-अलग सेक्स पोजीशन ट्राई करना कोई बुरी बात नहीं. इससे सेक्स लाइफ में नयापन आता है. लेकिन कुछ सेक्स पोजीशन जोखिम भरे हो सकते हैं. तो आइए हम ऐसे सेक्स पोजीशन के बारे में जानते हैं जिन्हें करने से आपको बचना चाहिए क्योंकि वे आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं.

खतरनाक सेक्स पोजीशन :


  • वूमन ऑन टॉप- सेक्स करने के दौरान अक्सर पुरुष की दिलचस्पी महिलाओं को ऊपर ( वूमन ऑन टॉप ) रखने की होती है, लेकिन ऐसा करना पुरुषों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है क्योंकि पुरुषों के जननांग में फ्रैक्‍चर ( पेनाइल फ्रैक्चर ) के अधिकांश मामले इसी सेक्स पोजिशन के कारण सामने आते हैं.
  • कनाडा में हुए रिसर्च के अनुसार, वूमन ऑन टॉप पोजिशन सबसे खतरनाक सेक्स पोजिशन है, जो पुरुष जननांग में फ्रैक्‍चर ( पेनाइल फ्रैक्चर ) का मुख्य कारण बनती है. जननांग में फ्रैक्‍चर होने के बाद पेनिस में दर्द या सूजन होने की शिकायत रहती है. वूमेन ऑन टॉप पोजिशन में प्राय: महिला अपने पूरे वजन के साथ गति को नियंत्रित करती है. इसमें महिला के अचानक गलत दिशा में चले जाने के कारण पेनाइल फ्रैक्चर होता है.
  • बॉडी बिल्डर पोजीशन – बॉडी बनाने में यह पोजीशन उपयोगी है, लेकिन सेक्स में यह पोजीशन आपको और आपके साथी को नुकसान पहुंचा सकती है. इसमें इंटरकोर्स के दौरान महिला साथी के लिए  स्थिर रहना थोड़ा मुश्किल होता है. इस पोजीशन में पुरुष महिला को अपने हाथों और थाइस पर पूरी तरह से रोक कर रखता है, जिससे उसके पैरों पर अधिक जोर पड़ता है. वहीं यदि महिला की कमर को ठीक से सहारा ना मिले तो वह गिर सकती है.
  • ब्‍लम्‍पिकन पोजीशन – यह पोजीशन सेक्स पोजीशन से ज्यादा सेक्स एक्ट है. इस पोजीशन में ब्लोजॉब यानी ओरल सेक्स अधिक होता है. इस पोजीशन को करने में महिला की आँखों को नुकसान पहुँच सकता है. ब्लोजॉब के दौरान यदि सीमन के छीटें महिला की आंखों में पड़ जाए, तो महिला को आंखों से संबंधित समस्या हो सकती है.
  • पाइल ड्राइवर पोजीशन – इस पोजीशन को बेड या जमीन पर किया जाता है. लेकिन इसे करते समय महिला का आधा शरीर बिस्तर पर टिका होता है और पैर घूमकर महिला की मुँह की तरफ आते हैं. इस पोजीशन में इंटरकोर्स आनंददायक होता है. लेकिन इसे करते समय पुरुष का पूरा वजन महिला के ऊपर आ जाता है और संतुलन बिगड़ने से इस पोजीशन से महिला की गर्दन को चोट लग सकती है.
  • ऐनल टू वैजाइना – ऐनल सेक्स के साथ-साथ मेन इंटरकोर्स जोखिम भरा होता है. यदि पुरुष सेक्स के बीच में ऐनल सेक्स करने लगे और फिर दोबारा सेक्स करने लगे तो ये सेक्स एक्ट महिला के लिए खतरनाक हो सकता है. क्योंकि सेक्स के साथ-साथ ऐनल सेक्स करने से कई बैक्टीरिया शरीर में चले जाते हैं जिससे महिला को बैक्टीरियल इंफेक्‍शन हो सकता है.
  • पेयर ऑफ टॉन्‍ग पोजीशन – इस पोजीशन में महिला पूरी तरह से पुरुष के सहारे पर होती है और महिला का केवल एक हाथ ही जमीन पर टिका होता है. और ऐसे में यदि महिला का हाथ जमीन से हट जाए या संतुलन बिगड़ जाए तो दोनों को ही गंभीर चोट लग सकती है. क्योंकि इस पोजीशन में मसल्स पर बहुत भार पड़ता है, महिला को इसे करते समय या बाद में दर्द भी हो सकता है.
  • स्टैडिंग काउगर्ल पोजीशन – इस पोजीशन को महिलाएं और पुरुष दोनों ही भी खूब पसंद करते हैं, क्योंकि इससे उन्हें ऑर्गेज्म जल्दी होता है. लेकिन इस पोजीशन में भी महिला का पूरा वजन पुरुष पर होता है. और यदि पुरुष का संतुलन बिगड़ जाए तो महिला को चोट लगने की आशंका बढ़ जाती है.
  • स्टैंडिंग 69 पोजीशन – कई जोड़ों को यह पोजिशन बहुत आनंददायक लगती है. इसमें महिला पुरुष साथी के ऊपर पीठ करके बैठ जाती है जिससे पूरा वजन एक ही पार्टनर पर आ जाता है. इस अवस्था में थकान अधिक होती है और पसीना भी ज्यादा आता है जिस कारण शरीर फिसलने लगता है. और ऐसे में यदि गलती से भी कोई फिसल जाए तो उसे गंभीर चोट लग सकती है.


Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Thursday, 29 September 2016

पति-पत्नी दोनों के लिए लाभकारी घरेलू नुस्खे

पति-पत्नी दोनों के लिए लाभकारी घरेलू नुस्खे 


सेक्स के बेहतर अनुभव के लिए स्वास्थ्य का अच्छा होना बेहद जरूरी है। अच्छी सेहत से सेक्स पॉवर भी बढ़ती है। पेश है सरल और लाजवाब घरेलू नुस्खे जो स्त्री व पुरुष दोनों की यौन शक्ति में वृद्धि करते हैं।

 * 100 ग्राम हल्की भुनी अलसी, 50-50 ग्राम सफेद मूसली, सोंठ व अश्वगंधा लेकर बारीक चूर्ण बना लें। 10-10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम इसका दूध के साथ सेवन करें। इससे ‍वीर्य की वृद्धि व शारीरिक शक्ति बढ़ती है। 

* 100 ग्राम अलसी चूर्ण, 50 ग्राम अश्वगंधा और 100 ग्राम मिश्री चूर्ण लेकर किसी एयर टाइट डिब्बे में रख दें। 10-15 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम दूध या पानी अथवा चाय के साथ इसका सेवन करें , यह मिश्रण यौनशक्तिवर्धक और दुर्बलतानाशक है।

* 25 ग्राम सिंघाड़े का आटा, 15 ग्राम घी, 50 ग्राम शक्कर और 250 ग्राम दूध लेकर हलवा बनाकर खाने से सेक्स पावर में चमत्कारिक रूप से वृद्धि होती है।

 अलसी चूर्ण व मिश्री चूर्ण बराबर मात्रा में लेकर एकसाथ मिलाकर रख लें,  5 ग्राम की मात्रा में इसे घी में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें। इसके सेवन से वीर्य में वृद्धि होती है।

* छिल्कारहित उड़द की दाल का आटा 20 ग्राम लेकर दूध में डालकर पकाएं , फिर इसमें शक्कर व थोड़ा-सा घी मिलाकर गुनगुना पीएं। इससे धातुस्राव का शमन होता है 

* उड़द की दाल को भिगोकर पीस लें। फिर इसे दही के साथ गूंथकर बड़े बनाकर तेल में तलकर खाएं। इससे सेक्स से जुड़ी कमजोरी दूर होती है।

* 5 ग्राम प्याज का रस, 2 ग्राम घी और 3 ग्राम शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने करें। इससे कामशक्ति की वृद्धि होती है। इस मिश्रण का इस्तेमाल कम से कम 5 दिनों तक करना चाहिए।


Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Wednesday, 28 September 2016

स्त्रियों में सेक्स संबंधी उदासीनता

स्त्रियों में सेक्स संबंधी उदासीनता



महिलाओं से जुड़ा एक बेहतर पॉपुलर सवाल है, "आखिर एक औरत के मन में है क्या?" अमेरिका में चिकित्सकों और शोधकर्ताओं की एक पूरी टीम इस सवाल का जवाब पाने में जुट गई और इस तलाश में कई अहम जानकारियां सामने आईं। दरअसल इस सवाल में अक्सर पूछा जाने वाला एक और अहम सवाल छिपा होता है जो निश्चित तौर पर एक स्त्री के सेक्स संबंधी दिलचस्पियों की पड़ताल करता है। यह सवाल दरअसल स्त्री की उम्र और सेक्स के रिश्ते से जुड़ा हुआ है। कई लोग मानते हैं कि एक स्त्री की उम्र उसकी सेक्स संबंधी दिलचस्पियों पर काफी असर डालती है। यह माना जाता है कि उम्र बढ़ने के साथ एक स्त्री काम क्रीड़ाओं में पहले जैसी दिलचस्पी नहीं लेती। लाइफ पार्टनर भी जिम्मेदार हालांकि हाल में हुए कई शोध से यह बात साफ हो गई है कि मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं मे संभोग के प्रति दिलचस्पी होना अथवा न होना सिर्फ बढ़ती उम्र पर निर्भर नहीं करता। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि उसका और उसके लाइफ पार्टनर का स्वास्थ्य कैसा है और सेक्स संबंधी गतिविधियों में वे कितनी दिलचस्पी लेते हैं। आम धारणा के विपरीत शोध में यह पाया गया है कि मध्यम आयु में भी औरतें न सिर्फ सेक्सुअली काफी सक्रिय होती हैं बल्कि कई मामलों में उनकी दिलचस्पी बढ़ती भी पाई गई है। शोध के दौरान जब यह जानकारी हासिल करने की कोशिश की गई कि जो महिलाएं सेक्स में सक्रिय नहीं हैं उसके पीछे क्या वजह है, तो पता चला कि कई भावनात्मक कारणों से उनकी सेक्स और अपने पार्टनर में दिलचस्पी खत्म हो चुकी है। उम्र बीतने के साथ औरतों में सेक्स के प्रति रूचि खत्म होने का बड़ा कारण उनके पार्टनर का व्यवहार होता है। पार्टनर में सेक्स के प्रति दिलचस्पी घटना या किसी प्रकार की अक्षमता का सीधा असर स्त्रियों की यौन सक्रियता पर पड़ता है। ऐसी भी स्त्रियां हैं जिनकी सेक्स में दिलचस्पी खत्म होने की अन्य वजहें भी रही हैं, मगर उनकी संख्या कम है। उल्लेखनीय है कि यह शोध जर्नल ऑफ अमेरिकन जराचिकित्सा सोसाइटी की ओर से किया गया था। इसमें मध्यम आयु वर्ग की सेक्स संबंधी हर तरह की दिलचस्पियों को शामिल किया गया था, जिसमें हस्तमैथुन भी शामिल था। शोध के दौरान स्त्रियों का एक बड़ा वर्ग सेक्सुअल एक्टीविटीज में उम्र बढ़ने के साथ ज्यादा सक्रिय होता पाया गया। शोध से यह स्पष्ट नतीजे सामने आए कि किसी भी स्त्री कि सेक्स संबंधी सक्रियता का उसकी उम्र के साथ कोई सीधा रिश्ता नहीं है। बल्कि वह उम्र बढ़ने के साथ सेक्स का ज्यादा आनंद उठा सकती है। शोध कार्य में लगे डाक्टरों की टीम की कुछ सिफारिशों में यह भी शामिल था कि किसी भी स्त्री के सेक्स हेल्थ को उसके पूरे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य से अलग रखकर नहीं देखा जा सकता। कुछ सुझाव यह पूरा अध्य्यन जर्नल ऑफ अमेरिकन जराचिकित्सा सोसायटी में प्रकाशित हुआ था। इस आधार पर मनोवैज्ञानिकों तथा सेक्स सलाहकारों ने कुछ सुझाव भी रखे हैं। ध्यान दें आपकी पार्टनर किसी दवा के साइड इफेक्ट की वजह से भी सेक्स में दिलचस्पी खो सकती है। यदि ऐसा है तो डाक्टर की सलाह लें। कई बार स्त्रियां मानसिक दबाव के चलते भी सेक्स में रुचि नहीं लेती हैं। बच्चों में ज्यादा व्यस्त हो जाने तथा सामाजिक मान्यताओं के चलते उन्हें लगता है सेक्स बहुत दिलचस्पी लेना उचित नहीं। इसके लिए जरूरी है के कपल थोड़ा समय अपने लिए भी निकालें। कई बार खान-पान संबंधी आदतों का भी सेक्स लाइफ पर असर पड़ता है। कुछ खाने के आइटम व्यक्ति में उत्तेजना को कायम रखते हैं और उनका मूड बनाने में मदद करते हैं। बढ़ती उम्र में खान-पान पर ध्यान देकर सेक्स लाइफ को बेहतर बनाया जा सकता है। कई बार ऐसा होता है कि बच्चों के बाद महिलाएं अपने शरीर को लेकर असहज हो जाती हैं और हीन भावना का शिकार हो बैठती हैं। इसके चलते भी वे सेक्स से जी चुराने लगती हैं। इसका सबसे बेहतर इलाज है नियमित व्यायाम। इससे न सिर्फ शरीर को खूबसूरत बनाया जा सकता है बल्कि यह मूड बनाने में भी मददगार है। बढ़ती उम्र में घर-परिवार और बढ़ती कामकाजी जिम्मेदारियों के कारण वे थकने लगती हैं और सेक्स के लिए उनमें पर्याप्त एनर्जी नहीं बचती। इसके लिए जरूरी है कि भागदौड़ के बीच थोड़ा वक्त अपने लिए भी निकाला जाए। किसी भी कपल को चाहिए कि वे खुद के आराम और मनोरंजन के लिए वक्त निकालें।

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Saturday, 24 September 2016

लिंग तनाव समस्या से परेशान: क्या करें?

लिंग तनाव समस्या से परेशान: क्या करें?



लिंग के तनाव कि समस्या से हताश हो चुके हैं? घबराइये नहीं: आपको बताएगा कि सबकुछ फिर से सामान्य कैसे किया जाये...

अपने साथी से संवाद
यदि आपको लगता है कि आपको लिंग के तनाव से जुडी समस्या है, तो अपने साथी से इस सन्दर्भ में बातचीत करना सही होगाI याद रखिये कि इस समस्या का प्रभाव आपके साथ साथ आपके पार्टनर पर भी पड़ता है, इसलिए उन्हें इस में शामिल रखना बेहतर हैI हम जानते हैं कि आपको ऐसा करने में संकोच महसूस होगा, लेकिन इस समस्या के संधान कि दिशा में पहला कदम यही हैI विशेषकर जब इस समस्या के पीछे का कारण शारीरिक कम और और मनोवैज्ञानिक ज़्यादा होI

डॉक्टर से परामर्श
लिंग तनाव कि समस्या के 75 प्रतिशत मामले भौतिक होते हैं और इनका आसानी से उपचार हो जाता हैI इसलिए, सिर्फ संकोच और शर्म के चलते डॉक्टर को अपनी समस्या न बताकर आप अपना ही नुकसान करेंगेI डॉक्टर से सलाह लेकर आप न सिर्फ इस समस्या का कारण पता लगा सकेंगे, बल्कि इसका हल भी ढूँढ सकेंगेI डॉक्टर से मिलना इसलिए भी आवस्यक है क्यूंकि लिंग तनाव कि समस्या कई बार किडनी,नाड़ी, न्यूरोलॉजिकल विकार, या डायबिटीज से भी जुडी हो सकती हैI डॉक्टर आपकी मदद अवश्य कर सकता है...

समस्या कि जड़ तक पहुंचें
समस्या की सही पहचान उसके उपचार के लिए ज़रूरी हैI बढ़ती उम्र के साथ अक्सर रक्त वाहिनी से जुडी जटिलता इस समस्या का कारण बनती है जबकि कम उम्र के पुरुषों में ये समस्या अक्सर मानसिक तनाव, निराशा भाव, या प्रदर्शन के दबाव के चलते पायी जाती हैI कुछ दवाओं का साइड इफ़ेक्ट या टेस्टोस्टेरोन स्तर की कमी भी इसका कारण हो सकता हैI

जीवन शैली में बदलाव
दिनचर्या में कुछ छोटे बदलाव लेकर आप इस समस्या के समाधान की और पहले कदम उठा सकते हैंI कई बार केवल धूम्रपान बंद करना, हल्का व्यायाम और तनाव का अंत ही इसके समाधान के लिए पर्याप्त रहता हैI जिन लोगों को इसके उपचार के लिए दवाइयों की ज़रूरत पड़ती है, जीवनशैली में बदलाव इस उपचार में और सहायक बन जाता हैI

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Thursday, 22 September 2016

अश्लील फिल्म देखने के हैं बहुत सारे नुकसान जो आप नहीं जानते!

अश्लील फिल्म देखने के हैं बहुत सारे नुकसान जो आप नहीं जानते!



 ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो अंतरंग संबंधों का आनंद पोर्न देखने के बाद लेते हैं हालांकि सरकार ने 850 से अधिक पोर्न साइट बैन करने की बात कही है। सोशल मीडिया में पोर्न साइट बंद करने की बात वायरल हो रही हैं हालांकि इस बारे में लोगों की अपनी-अपनी राय है।  वैसे अब तो पोर्न देखना आम सी बात हो गई है लेकिन आज भी लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि पोर्न देखना बुरा हैं या अच्छा। शायद लोगों को इस बात की जानकारी नहीं कि बहुत ज्यादा पोर्न देखने से आपकी सेक्स लाइफ और सेहत दोनों प्रभावित हो सकती हैं। 
कई रिसर्च कहती हैं कि पोर्न देखने के फायदे हैं तो कई रिसर्च इसके बुरे प्रभावों के बारे में बताती हैं। साथ ही एक सवाल और भी उठता है कि क्या पोर्न देखने से सेक्स क्षमता कम होती है। कई लोगों के लिए तो यह एक हानिरहित व्याकुलता है। 
वैसे आज हम आपको पोर्न देखने से लाइफ पर होने वाले बुरे असर के बारे में बताएंगेः

1. दिमाग का सिकुड़ना
एक रिसर्च के अनुसार, जो मर्द बहुत ज्यादा पोर्नोग्राफी देखते हैं उनका दिमाग सिकुड़ जाता है और उनकी सैक्सुयल संवेदनाएं भी कम हो जाती है। रिसर्च में तो यह भी दिखाया गया है कि रोजाना पोर्न देखने से शारीरिक नुकसान भी होता है हालांकि यह बात पूरी तरह से साबित नहीं हो पाई है लेकिन जिन लोगों के दिमाग का स्ट्रेटम छोटा होता है उन्हें पोर्न देखने का नुकसान अधिक होता है।

2. असंतुष्टि 
पॉर्न मॉडल्स का कमाल का फिगर और सुंदरता काफी हद तक मेकअप, कॉस्मेटिक सर्जरी और फोटोशॉप वगैरह पर निर्भर रहते हैं। लेकिन पॉर्न देखने वाले भी निजी जिंदगी में वोही पाना और करना चाहते हैं जो वे पोर्न में देखते हैं, जिस कारण उन्हें सेक्स में सैटिस्फेक्शन नहीं होती। वह अपने पार्टनर से खुश नहीं रहते। उनके दिल दिमाग में यह बात आती है कि उनका पार्टनर उतना सुंदर और आकर्षक नहीं है।

3. कामोत्तेजना पर बुरा असर पड़ता है
अगर तो दोनों पार्टनर बैठकर एक साथ पोर्न देखते हैं तो इस मामले में यह सैक्स का आनंद लेने का एक तरीका हो सकता है लेकिन अगर दोनों में एक पोर्न देखने में बिजी है तो यह संबंध एक त्रिकोण का काम करता है। बहुत सारी महिलाओं का मानना है कि कामोत्तेजना के लिए पोर्न फिल्म का सहार लेने से कामोत्तेजना पर असर पड़ता है।

4. ऑक्सीटोसिन 'लव हार्मोन' में कमी
ऑक्सीटोसिन एक शक्तिशाली 'लव हार्मोन' है जो पुरुष और महिलाओं दोनों को बंधन में बांधने में मदद करता है लेकिन पोर्न फिल्‍मों में जिस तरह से एक्‍टर सेक्स करने में अपने किरदार को निभाते हैं। उस निकटतम बंधन से ऑक्‍सीटोसिन कही खो जाता है।

5. ठीक से नहीं करते फोरप्ले
चुंबन सेक्स का एक अहम हिस्सा है, जिसमें जोड़े काफी मजा लेते हैं। यह बहुत ही अच्छा और करीबी अहसास होता है ले‍किन देखा गया है कि पोर्न की लत वाले लोग किस और फोरप्ले ठीक से नहीं कर पाते हैं।

6. संबंधों में जल्दबाजी
पोर्न उत्तेजित व्‍यक्ति के लिए किस एक बहुत ही धीमी गति से और बहुत अंतरंग होता है इसलिए वह इनसे जुड़ने की बजाए अपना ध्‍यान अलग-अलग तरह की यौन स्थितियों को जल्‍दी-जल्‍दी करने के लिए केंद्रित करता है। इस व्‍यवहार से आप में अपने साथी के प्रति अलगाव की भावना पैदा कर सकता है।

7. दिमाग के विकास पर प्रभाव
न्‍यूरोसाइंटिस्‍ट की मानें तो बहुत ज्‍यादा पोर्न देखने से दिमाग के विकास पर प्रभाव पड़ता है और इससे मनोविकार भी हो सकता है। अगर आप ऐसे व्‍यक्ति के साथ रिश्‍ते में हो तो आपको अंतरंगता के लिए नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/


Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Thursday, 15 September 2016

महिलाएं सेक्स क्यों चाहती हैं ?

 महिलाएं सेक्स क्यों चाहती हैं ?




किसी सहकर्मी के बड़े गले वाली ड्रेस से दिखने वाले वक्षों के बीच का अंतराल, क्लास की किसी लड़की के आकर्षक पैर, यहाँ तक कि किसी अजनबी महिला के परफ्यूम कि खुशबू- अचानक सेक्स कि ज़रूरत महसूस होना और कामोत्तेजित हो जाना पुरुषों के मामले में कोई बड़ी बात नहीं ; और एक बार दिमाग में सेक्स घुस आये तो पुरुषों का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ ओर्गास्म होता है और ये सारी प्रक्रिया काफी स्पष्ट और सरल ही होती हैI 

वहीँ महिलाओं कि कहानी ज़रा जटिल होती हैंI हाल ही कि रिसर्च ये खुलासा करती है कि महिलाओं के शारीरिक उत्तेजना कि क्या कहानी है, उनके सेक्स कि चाह के क्या कारण हैं औ ये सब पुरुषों से अलग कैसे है ?

अचानक मूड में

पुरुषों से अलग, महिलाएं हर समय सेक्स के मूड में नहीं रहती बल्कि कई बार इसका उल्टा सच होता  है जब वो अपने कामोत्तेजित पुरुष साथी के सख्त लिंग को देखकर मूड में आने लगती हैं और फिर अचानक कामोत्तेजित हो जाती हैं I

वैज्ञानिकों के अनुसार इसकी वजह हैं महिलाओं की 'प्रतिक्रियात्मक चाह'-  जैसे की उनका मूड उनके पार्टनर द्वारा किये गए काम की प्रतिक्रिया से बन सकता है जैसे कि पार्टनर का उनके स्तन को छूना लेकिन पुरुष अक्सर बरबस ही कामोत्तेजना महसूस करने में सक्षम हैं और इसी कारण अक्सर वो गलत समय पर और गलत जगह पर जननांग के सख्त हो जाने के कारण शर्मिंदा हो सकते हैं
इसका अर्थ ये बिलकुल नहीं कि महिलाएं कभी बरबस सेक्स उत्तेजना महसूस ही नहीं कर सकती उनके लिए बरबस उत्तेजना अक्सर नए रिश्तों में या अपने पार्टनर से काफी समय दूर रहने के बाद देखी जाती हैI

छुअन और किसिंग

सेक्स के दौरान भी पुरुषों से अलग महिलाओं का एकमात्र उद्देश्य ओर्गास्म नहीं होता  बेशक चरम तक पहुंचना हर महिला को पसंद है, लेकिन महिलाओं कि प्राथमिकता केवल यही नहीं होती.भावनात्मक जुड़ाव और प्यार का प्रदर्शन महिलाओं के सेक्स की चाह की कुछ वजह हैंI और यदि सेक्स के उपरांत वो अच्छा महसूस कर पाती है तो इस बार का ख़ास अनुभव और यादें उसे अगली बार कामोत्तेजित करने में सहयोग करते हैं तो यदि आप अपनी गर्लफ्रेंड का मूड बनाने की कोशिश में हैं तो इन  बातों को याद रखें, प्यार की छुअन और चुम्बन उसका मूड बनाने में मदद कर सकते हैंI और यदि ओर्गास्म नहीं भी हुआ, तो इसका अर्थ ये बिलकुल नहीं की उसे अच्छा अनुभव नहीं हुआ  

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Wednesday, 14 September 2016

चुबन मे चिपे है कई राज़ आइये हम बताते है आपको

चुबन मे चिपे है कई राज़ आइये हम बताते है आपको



 अगर अब तक आप सोचा करते थे कि आप और आपके पार्टनर के बीच कोई स्पेशल केमिस्ट्री है तो अब यह साबित हो चुका है कि आप सही हैं। हाल में हुए अनुसंधान में यह बात सामने आई है कि पूरे आवेग से लिया गया चुंबन एक खास किस्म के कांप्लेक्स केमिकल को दिमाग की तरफ भेजता है, जिससे व्यक्ति खुद को ज्यादा उत्तेजित, खुश अथवा आरामदायक स्थिति में महसूस करता है। यह भी अनुमान सामने आया है कि चुंबन के दौरान यह हारमोन मुंह के जरिए एक-दूसरे के शरीर में स्थानांतरित होता है और तत्काल असर करता है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस शोध से यह बात सामने आई है कि चुंबन दरअसल कहीं ज्यादा जटिल शारीरिक प्रक्रिया है और यह हारमोनल परिवर्तन के लिए जिम्मेदार भी है। उनका कहना है कि चुंबन से एक साथ बहुत कुछ घटित होता है जिसका विश्लेषण किए जाने की जरूरत है। बहरहाल विशेषज्ञ अब यह जानना चाहते हैं कि महज दो होठों के स्पर्श से कैसे दिमाग को इतना जबरदस्त इमोशनल रिस्पांस देता है। लिहाजा चुंबन के बारे में रिसर्च अब हारमोन्स के स्तर पर चल रही है। इस सिलसिले में 15 जोड़ों में लड़कों के साथ और लड़कियों के साथ आक्सीटॉनिक और कोर्टीसोल हारमोन का लेवेल चुंबन से पहले और चुंबन के बाद जांचा गया। पाया गया कि चुंबन के बाद आक्सीटॉनिक जो कि व्यक्ति में एक-दूसरे के करीब आने की इच्छा उत्पन्न करता है उसका स्तर बढ़ा हुआ था और कोर्टीसोल जो कि तनाव पैदा करने वाला हारमोन है उसका स्तर गिरा गया था। बहरहाल अभी यह रिसर्च जारी है और उम्मीद है कि चुंबन- जो कि अपने भीतर प्रेम और सेक्स के कई राज छुपाए हुए है- जल्दी प्रेमियों के सामने आ जाएंगे। वैसे वैज्ञानिकों के लिए भले ही चुंबन इस वक्त अजूबा हो मगर इसके असर की चर्चा तो सदियों से रही है। 

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Tuesday, 13 September 2016

महिलाओं में 5 खूबियां जो पुरुषों को करती हैं आकर्षित

महिलाओं में 5 खूबियां जो पुरुषों को करती हैं आकर्षित



महिलाएं कितनी ही खूबसूरत क्‍यों न हों, लेकिन प्‍यार और सेक्‍स की बात करें तो पुरुष उनकी तरफ आकर्षक तभी होते हैं, जब वो उन्‍हें भा जाये। यहां हम बात करेंगे महिलाओं के शरीर में उन खूबियों की जिसकी ओर पुरुष बहुत तेजी से आकर्षित होते हैं- 

स्‍तन- महिलाओं को देखते ही पुरुषों की पहली नजर सीधे उनके स्‍तन की ओर जाती है। यह प्राकृतिक है, इसमें महिलाओं को बुरा नहीं मानना चाहिये। लेकिन अगर आपके स्‍तन ढीले हैं, तो आकर्षण कम रहता है। बड़े और सुडौल स्‍तन की ओर पुरुष हमेशा आकर्षित होते हैं। यदि स्‍तन छोटे हैं, नीचे की ओर लटके हुए हैं और जरूरत से ज्‍यादा बड़े हैं, तो पुरुष उनकी ओर ज्‍यादा आकर्षित नहीं होते।

 जांघें- महिलाओं की पतनी और लंबी टांगें हमेंशा से आकर्षण का केंद्र रही हैं, लेकिन इसी के साथ अगर उनकी जांघें भरी हुई हों तो पुरुष उनकी ओर ज्‍यादा आकर्षित होते हैं। ऐसे में टाइट फिटिंग के कपड़े पहन कर महिलाएं अपने पार्टनर को आकर्षित कर सकती हैं।

 हिप्‍स- पुरुषों को बड़े और भरे हुए हिप्‍स ज्‍यादा पसंद होते हैं। लेकिन जरूरत से ज्‍यादा भारी हिप्‍स यौन इच्‍छाओं को कम करता है। 

कमर- पुरुषों को महिलाओं की पतली कमर हमेशा से भाती है। मोटी कमर को पुरुष कम ही पसंद करते हैं। 

होठ- महिलाओं के गुलाबी और पतले होठ पुरुषों को ज्‍यादा आकर्षित करते हैं। लेकिन यहां पर होठों के एक्‍सप्रेशन काफी मायने रखते हैं।

 Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr


Monday, 12 September 2016

जानिये कॉन्डोम प्रयोग करने के सही उपाये ?

जानिये कॉन्डोम प्रयोग करने के सही उपाये
-------------------------------------------------




यह तो मानना पड़ेगा कि कॉन्डोम विज्ञान का एक अद्भुत देन है। यह न सिर्फ अनचाहे प्रेगनेन्सी से बचाता है बल्कि एसटीडी यानि सेक्शुअल ट्रांसमिटेड डिजीज जैसे, एचआईवी/एड्स के खतरे से भी बचने में बहुत सहायता करता है। सुरक्षित रूप से सेक्स का आनंद उठाने के लिए कॉन्डोम का इस्तेमाल करना ज़रूरी होता है।
सुरक्षित रूप से प्रेम संबंध स्थापित करने के लिए कॉन्डोम का सही तरह से इस्तेमाल करने के बारे में भी जानना ज़रूरी होता है। नहीं तो कॉन्डोम इस्तेमाल करने के बावजुद भी खतरे की संभावना वैसे ही रह जाती है।

1. पैकेट को सही तरह से खोलने का तरीका: ज़्यादातर समय लोग दाँत से पैकेट को फाड़कर खोलने की कोशिश करते हैं जिससे कॉन्डोम के फटने की संभावना बन जाती है। जिसके फलस्वरूप परिणाम अच्छा नहीं हो पाता है।

2. खोलने का तरीका: सामान्य तौर पर लोग यह गलती कर बैठते हैं कि उत्तेजित होने के पहले ही कॉन्डोम को खोल लेते हैं। जिसके कारण जब वे उत्तेजित होने के बाद पहनने जाते हैं तब साधारणतः कॉन्डोम फट जाता है।

3. गलत तरह से पहनने का तरीका: कभी-कभी लोग जल्दी में कॉन्डोम गलत तरह से पहन लेते हैं और फिर खोलकर सही तरह से पहनने के दौरान उसमें शुक्राणु (sperm) के लग जाने की आंशका बन जाती है, जिसके कारण गर्भधारण का खतरा बढ़ जाता है।

4. गलत लूब्रकन्ट (lubricant) का इस्तेमाल: कॉन्डोम के साथ सही तरह के लूब्रकन्ट का इस्तेमाल करना ज़रूरी होता है नहीं तो कॉन्डोम के फटने की संभावना बढ़ जाती है। उदाहरणस्वरूप पेट्रोलियम जेली, लोशन , क्रीम का इस्तेमाल करने से लैटेक्स कॉन्डोम (latex condom) को नुकसान पहुँचता है। इसके लिए ग्लिसरिन का इस्तेमाल करना अच्छा होता है।

5. हवा भरने की गलती न करे: कोई-कोई यह गलती कर बैठते हैं कि कॉन्डोम को पहनते वक्त उसमें हवा भरने लगते हैं। हवा के बुलबुले कॉन्डोम के फटने का कारण बन सकते हैं।

6. पहनने के बाद जगह न छोड़े: वीर्य (semen)के नोक पर पहनने पर जगह नहीं छोड़नी चाहिए इससे फटने का डर बना रहता है।

7. काम हो जाने के बाद पहने रहने की गलती: सेक्स के दौरान उत्तेजना के शमन के बाद भी कुछ लोग पहने रहने की गलती करते हैं जिससे शुक्राणु के निकल कर बाहर आने का डर बना रहता है। इसलिए इस्तेमाल करने के तुरन्त बाद इसको खोलकर फेंक देना चाहिए।

8. सही साइज का चुनाव: कॉन्डोम खरीदते वक्त सही साइज का चुनाव ज़रूर करें। साइज सही नहीं होने पर ढीला हो जाता है या जगह छुट जाता है। जिसके कारण सेक्स के दौरान आनंद पूरी तरह से उठा नहीं पाते हैं।
कॉन्डोम विज्ञान की देन ज़रूर है मगर बनाया तो मनुष्य ने ही है इसलिए कभी-कभी इसको बनाने में या संरक्षित करने में भी कुछ समस्याएं आ जाती हैं इसलिए इस्तेमाल करने के पहले इन बातों पर ध्यान देना ज़रूरी होता है:

हमेशा अच्छे ब्रैंड का कॉन्डोम ही खरीदें।
खरीदते वक्त एक्सपाइरी डेट (expiry date) पर ध्यान ज़रूर दें।
ज़्यादातर लोग पॉकेट में कॉन्डोम लेकर घुमते हैं। सूर्य के किरणों के संपर्क में आने के कारण कॉन्डोम का लैक्टेस और टेक्सचर दोनों नष्ट होने लगते हैं।
इसलिए सुरक्षित और आनंदपूर्ण सेक्स लाइफ के लिए कॉन्डोम का इस्तेमाल ज़रूर करें।

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Sunday, 11 September 2016

सेक्स क्या है ?

सेक्स क्या है ?






सेक्स का आवेग इतना तीव्र होता है कि नर का जननांग मादा के 

जननांग के मिलन के लिए और मादा नर के जननांग के लिए आतुर हो 


जाती है, यह क्रिया पूर्णतया नैसर्गिक होती है।


सब प्राणियों में सेक्स के लिए सन्देश दिमाग से जननांगों तक जाता है, 


और जननांग सम्भोग के लिए उत्तेजित हो जाते हैं। फिर नर अपना लिंग


नारी की योनि में प्रवेश करा के वीर्य को नारी की योनि में संचित होने के 


लिए छोड़ देता है।



सेक्स के विचार से या किसी स्त्री के साथ सम्भोग की इच्छा होने से लिंग 


में खून के प्रवाह से तनाव आता है, लिंग से बिना रंग का चिकना पदार्थ 


रिसने लगता है। इसी तरह स्त्री के मन में सम्भोग की इच्छा या विचार 


आने से योनि में संकुचन और फैलाव होने लगता है। योनि से भी एक 


रंगहीन चिकना तरल पदार्थ निकलने लगता है। इस पदार्थ से लिंग और 


योनि को सम्भोग के समय घर्षण के दौरान चिकनाई मिलती है।


मेरे अनजाने में मेरा लिंग क्यों खड़ा हो जाता है?


अनजाने में लिंग का खड़ा होना बचपन से अधेड़ उम्र तक होता रहता है। 


किशोर उम्र और शुरुआती जवानी में लिंग बार बार खड़ा होना आम बात 


है। रोज रात में नींद में भी लिंग कई बार तन जाता है।



यह इसलिए भी होता है कि आस पास कई तरह के सेक्स उत्तेजक 


मौजूद होते हैं। जैसे की सड़क पर जानवरों का सेक्स देखना, कोई 


उत्तेजक कहानी पढ़ना या उत्तेजक विचार आना, उत्तेजक फिल्म या 


चित्र देखना आदि, इसके बारे में चिन्ता की कोई बात नहीं।



यह होना एकदम नैसर्गिक है।


Kashyap Clinic Pvt. Ltd.


Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Saturday, 10 September 2016

पहली बार सेक्स कर रहे है तो ध्यान रखिये ये बातें ?

पहली बार सेक्स कर रहे है तो ध्यान  रखिये  ये बातें



 ये रोमांचक और ख़ास भी हो सकता है। तो ज़रूरी है की ये खुशनुमा याद की तरह आपके दिमाग में रहे। इसके लिए आपको क्या करना है?

और ये कैसे सुनिश्चित करें की आपके साथी के लिए भी ये आनंद दायक अनुभव हो? पांच बडे तथ्य के इस लेख में जानिए।

अपने साथी की तरफ भी ध्यान दें!

क्या आपके साथी को भी आपके इस मिलन का मज़ा आ रहा है? उनसे पूछिए की क्या वो आराम से हैं? उनसे प्यार के कुछ शब्द कहिये। कहीं वो आपके सामने बिना कपड़ों के झिझक तो महसूस नहीं कर रहे? तारीफ करिए। क्या आप अपने साथी के मन की बात समझ सकते हैं? कहीं ऐसा तो नहीं की वो इस अगले कदम के लिए अभी तैयार नहीं है?

अपनी और उनकी इच्छाओं को समझें। कहीं ऐसा तो नहीं की अभी आप सेक्स के लिए तैयार नहीं हैं? इस बात का फैसला सिर्फ आप कर सकते हैं। किसी के बहकावे  में आकर कोई फैसला ना करें और ये कदम उस व्यक्ति के साथ उठाएं जिस पर आपको भरोसा हो। सुखद पहले सेक्स अनुभव की कुंजी यही है!

पहले सेक्स से जुडी दस टिप्स 


जल्दबाजी न करें

जल्दबाजी न करें और प्यार के इस रूप के पहले एहसास का लुत्फ़ उठाएं। एक दूसरे को स्पर्श और चुम्बन से उत्तेजित करें। महिला के कामोत्तेजित होने पर उनकी योनि के भीतर गीलापन आता है। ये गीलापन बहुत ज़रूरी है। ये चिकनाई बढ़ता है और सेक्स के दौरान होने वाली पीड़ा को कम करता है।

लगभग तीन चौथाई युवाओं के पहले सेक्स का क्रम सामान ही होता है: चुम्बन, कपड़ों के भीतर हाथ डालकर स्पर्श। परस्पर हस्तमैथुन और आखिर में सेक्स।

पहले सेक्स के बारे में और जानकारी


पहली बार के सेक्स में क्या करना है। शायद आपको इस बात की जानकारी ना हों। अपने साथी की प्रतिक्रिया को परखें। क्या वो कामोत्तेजित होकर आहें भर रहे हैं? क्या वो आपके हाथ को किसी ख़ास जगह निर्देशित कर रहे हैं? ये संकेत हैं की आप सही दिशा में अग्रसर हैं। लेकिन अक्सर ये संकेत स्पष्ट नहीं होते। इसलिए एक दूसरे से बात करना बहुत ज़रूरी है। काफी लोगों को ये बातें भी उत्तेजित कर देती हैं। और याद रखें की सेक्स और मजाक अच्छा मिश्रण है!

वास्तविकता सिनेमा से अलग है

सेक्स शुरुवात से आनंद दायक अनुभव हो ऐसा बिलकुल ज़रूरी नहीं। लिंग के पहली बार प्रवेश करते समय लड़कियां अक्सर पीड़ा महसूस करती हैं। लड़के पहली बार कंडोम पहनने में कठिनाई का सामना करते हैं। इसके बारे में पहले से जानकारी ले लेना बेहतर है। संभव है की लिंग के प्रवेश करते ही या करने से पहले ही वीर्यपतन हो जाये। या फिर इसका विपरीत- हो सकता है की झिझक और घबराहट के कारण लिंग के सख्त होने में कठिनाई हो। और योनि में प्रवेश करने के लिए लिंग का सख्त होना आवश्यक है।

लेकिन पहली बार सेक्स करते समय ये सब होना बिलकुल सामान्य है। इस बारे में बात करें और फिर से प्रयास करें। अगर सब कुछ सही नहीं हो पा रहा तो निराश न हों और फिर से कोशिश करें।


दर्द

महिलाओं के लिए पहली बार का सम्भोग कष्टदायक हो सकता है। इसका कारण है योनि के भीतर की त्वचा में खिंचाव आना। घबराहट के कारण योनि की त्वचा का संकुचित होना भी सामान्य है। अक्सर दर्द का डर लड़कियों को सम्भोग करने से झिझकने का कारण बन जाता है। अगर वो सहेज हों, उत्तेजित हों और योनि के भीतर पर्याप्त गीलापन हो, तो संभव है की बिलकुल भी दर्द न हो। गहरी सांस लीजिये और आराम करिए। जल्दी या ज़बरदस्ती करने की बिकुल ज़रूरत नहीं है।


Kashyap Clinic Pvt. Ltd.



Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Thursday, 8 September 2016

पुरुषों में कब खत्‍म हो जाती हैं यौन इच्‍छाएं

पुरुषों में कब खत्‍म हो जाती हैं यौन इच्‍छाएं ?



क्‍या आपके पति ने आपको छूना बंद कर दिया है, या फिर कई-कई दिन बीत जाते हैं और आप दोनों के बीच यौन संबंध स्‍थापित नहीं होते? जब आप अपने पति के करीब जाती हैं तो क्‍या वो आपसे दूर हटते हैं या फिर क्‍या वो आपके सामने सेक्‍स करने की इच्‍छा प्रकट नहीं करते? इन सभी सवालों के जवाब यहां इस लेख में मिलेंगे। जी हां हम आपको बतायेंगे कि पुरुषों में कब अपनी पत्‍नी में रुचि कम होने लगती है। हम उन कारणों पर चर्चा करेंगे कि जिसके कारण पति अपनी पत्‍नी से सेक्‍स करना कम कर देते हैं या बंद कर देते हैं। 
1. सबसे पहला कारण यह कि अगर बेडरूम के अंदर रोमांच की कमी होगी, तो पुरुषों का मन सेक्‍स से हट जाता है। इसके लिए आपको पोजीशन बदल-बदल कर सेक्‍स करना चाहिये, इससे हर पोजीशन में आपके पार्टनर को एक नया अनुभव होगा, जिससे प्‍यार बना रहेगा।
 2. यदि आप मोटी हो रही हैं, तो समझ लीजिये कुछ ही दिनों में आपके पति के अंदर सेक्‍सुअल इच्‍छाएं कम हो सकती हैं। लिहाजा हमेशा यह कोशिश करें कि आपकी बॉडी में फैट नहीं बढ़े। 
3. बच्‍चा पैदा होने के बाद अक्‍सर महिलाएं अपने पतियों से दूरियों का अहसास करती हैं। इसका मुख्‍य कारण होता है योनि में ज्‍यादा स्‍पेस होना। यानी उसका साइज बढ़ जाना। ऐसे में पति को ज्‍यादा मजा नहीं आता।
 4. बेडरूम में झगड़ा करने से भी पतियों के अंदर सेक्‍स की इच्‍छा खत्‍म हो जाती है। लिहाजा बेहतर होगा यदि आप अपने पति से सोने से पहले झगड़ा मत करें। दूसरी बात सेक्‍स करते वक्‍त कोई भी ऐसी बात नहीं छेड़ें जिससे उसे गुस्‍सा आये। 
5. यदि आपके पति ने सेक्‍स करना बंद कर दिया है या कम कर दिया है, तो हो सकता है उसके कारण ऊपर के सभी कारणों से अलग हो, क्‍योंकि कई बार ऑफिस में अत्‍याधिक काम का बोझ और काम का टेंशन भी सेक्‍सुअल इच्‍छाओं का दमन कर देता है। 
6. यौन शक्ति का कम होना भी एक बड़ा कारण है। उम्र के साथ ऐसा होता है। उम्र ढलने पर पुरुषों के यौन अंग कमजोर पड़ने लगते हैं। यदि ऐसा हो तो आप खुल कर उनसे बात करें और डॉक्‍टर से सलाह लें।


Kashyap Clinic Pvt. Ltd.



Website-www.drbkkashyapsexologist.com

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Tuesday, 6 September 2016

गर्भावस्था मे सम्बन्ध बनाना कितना सही है ?

गर्भावस्था मे  सम्बन्ध बनाना कितना सही है ?




कईयों के लिए टेंशन की वजह! हज़्बंड को भी इस वक्त सेक्स का मन हो सकता है लेकिन वाइफ की हेल्थ को लेकर डर, या बच्चे की फिक्र सारी एक्साइटमेंट को ठंडा कर देती है।

दरअसल, विमिंस जब प्रेग्नेंट हों तब सेक्स करना बुरा नहीं है। नॉर्मल प्रेग्नेंसी में आप डिलिवरी तक सेक्शुअल रिलेशन बना सकती हैं। लेकिन इंडियन मेंटैलिटी मानती है कि प्रेग्नेंट विमिन को डिलिवरी के लिए उसके पैरंट्स के घर भेज दिया जाता है। ऐसा माना जाता है कि लास्ट वीक्स में सेक्स नहीं करना चाहिए, इससे वक्त से पहले डिलिवरी पेन हो सकता है।

इससे बचें:

- सॉफ्टली लव रिलेशन रखें। यदि आपको तकलीफ होती है तो डीप पेनिट्रेशन से बचें।
- सेक्स के दौरान किसी बाहरी वस्तु का इस्तेमाल न करें।

- उन टबों, बिस्तरों या काऊचों पर सेक्स न करें जो कमजोर हों।
- सेक्स के बाद अपने प्राइवेट पार्ट के आपपास एरिया को एक साफ तौलिए या टिशू पेपर से साफ करें।
- चिकनाई युक्त क्रीम या जेल से बचें जिनसे जलन या एलर्जी हो सकती है |

क्या सेक्स से बेबी को नुकसान हो सकता है?

सेक्स करने से आपके बेबी को नुकसान नहीं पहुंचेगा। एक गाढ़ा म्यूकस प्लग वॉम्ब के डोरवे को बंद कर देता है और इन्फेक्शन से बचाव में मदद करता है। 'पानी की थैली' और यूटेरस की मसल्स आपके बेबी को सेफ रखते हैं।

क्या सेक्स पहले जैसा अच्छा लगेगा?

कुछ महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स में काफी आनंद आता है क्योंकि अब उन्हें गर्भधारण और फैमिली प्लानिंग की कोई टेंशन नहीं होती। बढ़ी ब्लीडिंग का मतलब है कि आपकी सेक्शुअल रिलेशन की अनुभूति बढ़ गई है। लेकिन इसी वजह से कुछ महिलाओं को सेक्स के बाद भारी सा महसूस होता है। कुछ महिलाओं को सेक्स के दौरान परेशानी महसूस होती है, या पेट में मरोड़ भी हो जाती है।

क्या ओरल सेक्स सुरक्षित है?

हां, सामान्य ओरल सेक्स से आपको तथा आपके बेबी को कोई नुकसान नहीं पहुंचता और अनेक पति-पत्नियों को सेक्स का जोखिम उठाने के बजाए यह तरीका बेहतर लगता है।

 Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Website- http://www.drbkkashyapsexologist.com/

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/

Sunday, 4 September 2016

लड़कियों में चरम आनंद या आर्गैज़्म

लड़कियों में चरम आनंद या आर्गैज़्म

जब किसी लड़की को चरम आनंद महसूस होता है, तो योनि और गुदा के आस-पास पेड़ू तल (पेल्विक फ्लोर) की मांसपेशियां एक साथ लयबद्ध तरीके से सिकुड़ती हैं, तनाव में आती हैं और ढीली पड़ती हैं।

कभी-कभार गर्भाशय भी सिकुड़ता है और फैलता है। इस संकुचन से पेडू़ में बहुत अधिक आनंद महसूस होता है।

कुछ लड़कियां तो यह आनंद अपने पूरे शरीर में महसूस करती हैं। यह चरम आनंद आपके पूरे शरीर को रोमांचित कर सकता है।

एक से अधिक बार आर्गैज़्म
लड़कियां एक साथ एक से अधिक बार आर्गैज़्म महसूस कर सकती हैं, जिनके बीच अंतर बहुत कम हो सकता है। ऐसा इसलिए संभव है क्योंकि आर्गैज़्म के 10 से 15 सेकेंड बाद टिठनी अपने सामान्य आकार में आ जाती है। और यह फिर से उत्तेजना के लिए तैयार हो जाती है। लड़कों को वीर्यपात के बाद सामान्य होने में इससे अधिक देर लगती है।
आर्गैज़्म महसूस करते समय कुछ लड़कियों की योनि से तरल की धार निकलती है। यह पेशाब नहीं होती, बल्कि योनिस्राव योनि का तरल पदार्थ होता है।

लड़कियां किस प्रकार आर्गैज़्म महसूस कर सकती हैं ?
टिठनी को सहलाएं, उदाहरण के तौर पर उसे उंगली से या जीभ से महसूस कर ऐसा किया जा सकता है। अधिकांश लड़कियों को केवल योनि-सेक्स करने से आर्गैज़्म महसूस नहीं होता। क्योंकि योनि तुलनात्मक रूप से कम संवेदनशील होती है, और केवल योनि में लिंग के अंदर-बाहर होने से टिठनी को पर्याप्त उत्तेजना नहीं मिल पाती। उंगली से सहलाना और मुख मैथुन भी देखें।

जी-स्पोट
कुछ लड़कियों में जी-स्पोट भी मौज़ूद होता है। यह, योनि के तीन-पांच सें. मी. अंदर सामने वाली सतह पर सिक्के के आकार का एक क्षेत्र होता है। कुछ लड़कियों के लिए इसका कोई खास महत्व नहीं होता, लेकिन दूसरों के लिए यह विषेश संवेदनशील होता है। इसे उंगली द्वारा या कुछ विशेष आसनों में मैथुन करते समय उत्तेजित किया जा सकता है।
स्तन और सेक्स
स्तन और खासकर उनके निप्पल, छूने के प्रति संवेदनशील होते हैं और आपके उत्तेजित होने पर कड़े तथा बड़े हो जाते हैं। निप्पल के चारों ओर का घेरा फूल जाता है और उनका रंग अधिक गहरा हो जाता है, तथा वहां की चमड़ी ऊबड़-खाबड़ हो जाती है। कई लड़कियों को सेक्स के समय अपने स्तन और निप्पल सहलाया जाना पसंद है। आपके साथी ऐसा करने के लिए अपनी उंगलियों, होठों, जीभ या दांतों का भी प्रयोग कर सकते हैं। जब स्तनों को छुआ जाता है तो उसका असर आपको योनि में महसूस होता है, जिसमें चिकनाई या गीलापन आ जाता है। यदि आपके स्तनों और भग को साथ-साथ छुआ-सहलाया जाए, तो विषेश आनंद महसूस हो सकता है।

सेक्स के बाद की यौन क्रिया
सेक्स करने के बाद एक-दूसरे के पास-पास लेटना, सहलाना और बातें करना अच्छा लगता है। खासकर कई लड़कियों को सेक्स के बाद की जाने वाली यौन क्रिया बहुत ज़रूरी लगती है।

Kashyap Clinic Pvt. Ltd.

Youtube-https://www.youtube.com/channel/UCE1Iruc110axpbkQd6Z9gfg

Website- http://www.drbkkashyapsexologist.com/

Twitter- https://twitter.com/kashyap_dr

Gmail-dr.b.k.kashyap@gmail.com

Fb-https://www.facebook.com/DrBkKasyap/